ज़िंदगी बदल देने और ज्ञानवान विचार 6

*अज्ञानी व्यक्ति गलती छिपाकर* 
          *बडा बनना चाहता है,*
                    *औऱ*
      *ज्ञानी व्यक्ति गलती मिटाकर*
          *बडा बनना चाहता है ।*
.*संयम:
हमारे *चरित्र* की क़ीमत बढ़ाता हैं,
मित्र और परिवार:
हमारे *जीवन* की क़ीमत बढ़ाते हैं..
.एक व्यक्ति बनकर जीना*  
                  *महत्वपूर्ण नहीं है*
          *अपितु एक व्यक्तित्व बनकर*   
            *जीना अधिक महत्वपूर्ण है*
           *क्योंकि व्यक्ति तो समाप्त हो*
                   *जाता है लेकिन…*
         *व्यक्तित्व सदैव जीवित रहता है..✍🏻 ll*
जो कह दिया वह शब्द थे जो नहीं कह सके वहअनुभूति थी*  *और*
*जो कहना है फिर भी नहीं कह सकते वह मर्यादा है*।
*समझ…ज्ञान से ज्यादा गहरी होती है…..*
*बहुत से लोग आपको जानते हैं…..*
*परंतु कुछ ही आपको समझते हैं…..*
*मन तृप्त है….*
*तो एक बूँद भी* 
*बरसात है…..*
*अतृप्त मन…* 
*के आगे तो….*
*समंदर की भी* 
*क्या औकात है…।*
      

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *